Wednesday, July 31, 2013

बधशाला -12

इसको कहते है ! पत्थर दिल नहीं एक आंसू ढाला
कर्मयोग में ऐसा ही , बन जाता कर्मठ मतवाला
मोरध्वज के अंतिम धर्म की , उपमा मिलनी महा कठिन
मात- पिता निज सुत की खोले. हर्षित होकर बधशाला



बोला सुत को बांध खंभ से , हिरनकश्यप मतवाला
बता कहाँ भगवान छिपा है , कर बैठा क्या मुंह काला
कहा भक्त ने असुर निकंदन , आओ काटो मम बंधन
प्रकट तपोबल तभी हुआ, खोली पशुबल की बधशाला



गया चोर की तरह भीरु ने , कर्म कलंकित कर डाला
अमर हुआ तो क्या? माथे का, , घाव नहीं भरने वाला
अरे निकर अश्व्स्थामा क्यों , धर्म युद्ध बदनाम किया
द्रोपदी के सुत सोये सुख मय,. नींद खोल दी बधशाला

17 comments:

  1. कर्मयोग और विस्तार से सूक्ष्मता की ओर ......आध्यात्म से जुड़ती निरंतर ......हृदय झकझोरती बधशाला ......
    ज्ञान का सागर बनती जा रही है ये ....!!
    बहुत सुंदर ज्ञानवर्धक श्रिंखला.....आशीष भाई ....!!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर श्रृंखला की एक और प्रभावशाली कड़ी!

    ReplyDelete
  3. अपनी -अपनी है बधशाला । किसी ने की धर्म के निम्मित, तो कोई अहंकार में भरा !

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन !!! बस और कुछ नहीं !!

    ReplyDelete
  5. भक्तों की भी कठिन परीक्षा
    लेते हैं भगवान सदा
    उदाहरणों के माध्यम से
    सिखा रही है बधशाला

    ReplyDelete
  6. इतिहास के अध्याय ऐसे ही क्षत विक्षत पड़े हैं विकारों से, वधशाला ने सब देखा है।

    ReplyDelete
  7. न जाने इतिहास में कितनी वधशालाएं दबी हैं ... सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. BAHUT BAHUT SUNDAR ..BEHTREEN LIKH RAHE HAIN AAP ASHISH IS KO ..BAHUT ROCHAK TAREEKE SE ..PADHNA ACCHA LAGTA HAI ISKO ..SHUKRIYA

    ReplyDelete
  9. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन सही मायने में 'लोकमान्य' थे बाल गंगाधर तिलक - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  10. वाह . बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति
    कभी यहाँ भी पधारें और टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |http://saxenamadanmohan.blogspot.in/
    http://saxenamadanmohan1969.blogspot.in/

    ReplyDelete
  11. धर्म के आड़ लेकर अहंकारी हर युग में बध शाला का निर्माण किया
    latest post,नेताजी कहीन है।
    latest postअनुभूति : वर्षा ऋतु

    ReplyDelete
  12. कविता का असली रूप तो भैया जी आपके ब्लॉग पर दीखने को मिलता है :)

    ReplyDelete
  13. बढ़ते चलो इस बधशाला के साथ ...

    ReplyDelete
  14. Aapki ye shrinkhala padhke mai nistabdh ho jatee hun...kya comment karun?

    ReplyDelete
  15. घाव नहीं भरने वाला
    बधशाला से जो इतना बहा है हाला..

    ReplyDelete