Wednesday, July 10, 2013

बधशाला -10

यह कुटुंब, धन, धाम कहाँ है , अरे साथ जाने वाला
जिसके पीछे तूने पागल , क्या अनर्थ न कर डाला
नित्य देखता है तू फिर भी , जान बूझकर फंसता है
"जग जाने " पर ही यह जग है , सो जाने पर बधशाला.



जितना ऊँचा उठना चाहे , उठ जाये उठने वाला
नभ चुम्बी इन प्रासादों को , अंत गर्त में ही डाला
जहाँ हिमालय आज खड़ा है , वहां सिधु लहराता था
लेती है जब करवट धरती, खुल जाती है बधशाला 



खिसक हिमालय पड़े सिन्धु में , लग जाये भीषण ज्वाला
गिरे ! टूट नक्षत्र भूमि नभ , टुकड़े टुकड़े कर डाला
अरे कभी मरघट में जाकर , सुना नहीं प्रलयंकर गान
ब्रम्ह सत्य है ! और सत्य है , विश्व नहीं, ये बधशाला

16 comments:

  1. धन्य हो भाई तुम ,,,उस मन- मस्तिष्क को सादर नमन जिस में ऐसे सुंदर और बढ़िया विचार आते हैं
    जियो ख़ुश रहो !!!

    ReplyDelete
  2. हर पल बढ़ते रहते हम सब,
    अन्त जहाँ, सब त्यक्त वहीं,
    मन के सारे अनसुलझों का,
    मर्म उमड़ता, व्यक्त वहीं।

    ReplyDelete

  3. अद्भुत..
    कमाल की रचना......
    अब कोई ईर्ष्या करे बिना कैसे रहे :-)

    अनु

    ReplyDelete
  4. प्रभावशाली श्रृंखला में जुड़ी एक और सुन्दर कड़ी...!
    चलता रहे चिंतन... बढ़ती रहे काव्ययात्रा!

    ReplyDelete
  5. अध्बुध ... नमन है आपकी कलम को ...
    गहरा चिंतन .. रुकने न पाए ये प्रवाह ... आमीन ...

    ReplyDelete
  6. ब्रम्ह सत्य है ! और सत्य है , विश्व नहीं, ये बधशाला .... कुछ भी साथ नहीं जाता ...
    नश्वर संसार को परिभाषित करती सुन्दर पंक्तियाँ ... :)

    ReplyDelete
  7. गज़ब है , गज़ब है , गज़ब है ..

    ReplyDelete
  8. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन जनसंख्या विस्फोट से लड़ता विश्व जनसंख्या दिवस - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  9. लेती है जब करवट धरती, खुल जाती है बधशाला ...
    speechless

    ReplyDelete
  10. अरे कभी मरघट में जाकर , सुना नहीं प्रलयंकर गान
    ब्रम्ह सत्य है ! और सत्य है , विश्व नहीं, ये बधशाला

    ...बहुत उत्कृष्ट प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  11. गहन होती हर श्रंखला .....जीवन सत्य से करीब ...आध्यात्म से जुड़ती हुई ...!!बहुत प्रभावी ...!!अमर होगी यह बधशाला ....!!

    ReplyDelete
  12. भीषण , प्रलयंकर ये बधशाला..अति सुन्दर..

    ReplyDelete