Friday, September 7, 2012

चकोरी भूली


विगत जुलाई के उत्तरार्ध से  ब्लाग लिखने और आप सबको  पढने से वंचित रहा . कारण स्व-जन का स्वास्थ्य कारण और फिर कुछ आलस भी है .कई दिनों से सोच रहा था की कल से लिखूंगा लेकिन आलसबस टालता रहा .  अनुपमा त्रिपाठी जी कुछ दिन से रोज पूछती थी , क्यों नहीं लिख रहे , एक दिन अनुलता जी ने भी संदेह  जाहिर किया कि क्या मैंने ब्लाग से मुँह मोड़ लिया आज शिवम् मिश्रा जी  ने भी यही प्रश्न किया और जोर दिया पोस्ट डालने कि  तो   . मैंने सोचा ज्यादा देर हो उससे पहले लिख डालूँ  नहीं तो    . क्या लिखूं आप लोग समझ गए होगें ना .:). तो हमने लिख ही दिया , अच्छा या बुरा वो नहीं पता .


नीले वितान के नभ में 

जलदो का जाल नहीं है 
चपला की प्रतिपल चंचल 
क्रीडा का काल नहीं है 

दिन के प्रकाश को संध्या 
ढँक अरुणांचल से अपने 
दे थपकी सुला रही है 
है लीन दृगो में सपने 

अति निमिड तिमिर ने धीरे 
निज कृष्ण प्रकृति के बल से 
अम्बर- प्रदेश में आकर 
अधिकार जमाया छल से 

पर उड्नायक ने तम का 
यह परख प्रपंच लिया है 
निज अनुचर दल संग आकर 
आवृत आकाश किया है 

निज धवल धाम से निशिपति 
गगनांगन शुभ्र बनाते 
लख तिमिर पलायन उडगण
हँस हँस कर मोद मनाते

वो भोली बाल चकोरी 
खो बैठी सुध बुध सारी
लख निज प्रिय शशलांछन की
शरद -सुन्दरता न्यारी 




पर हाय ! चकोरी भूली 
शशि ने भावुकता खोई 
है गह्वर चन्द्र- ह्रदय में 
ले गया चुरा चित्त कोई .

39 comments:

  1. मानसिक व्यायाम हो गया....
    आ बैल मुझे मार वाली कहावत सिद्ध हुई..
    :-)

    सुन्दर रचना..
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा, वैसे कौन? कविता या :)

      Delete
    2. हाँ अनु !! हमारी बात पता नहीं कब मानेंगे आशीष जी :(

      Delete
  2. वाह आशीषजी ..सदा की तरह समृद्ध और सुन्दर काव्य रचना .....

    ReplyDelete
  3. मुझ अज्ञानी के अनुरोध को इतना मान देने के लिए आपका बहुत बहुत आभार महाप्रभु ... जय हो !

    मुझ से मत जलो - ब्लॉग बुलेटिन ब्लॉग जगत मे क्या चल रहा है उस को ब्लॉग जगत की पोस्टों के माध्यम से ही आप तक हम पहुँचते है ... आज आपकी यह पोस्ट भी इस प्रयास मे हमारा साथ दे रही है ... आपको सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. वाह बहुत सुन्दर ..शब्दों पर आपकी इस तरह से पकड़ बहुत अच्छी है ..बहुत बढ़िया लगता है इस तरह से लिखा पढना ..बेहतरीन आशीष जी

    ReplyDelete
  5. वितान,जलद,चपला,प्रकाश, संध्या,तिमिर,उडनायक,आकाश,
    निशिपति और चकोरी...
    क्या रूप सजाया है कविता का.... 
    लाजवाब अभिव्यक्ति .... लाजवाब शब्द चयन....

    सादर   

    ReplyDelete
  6. अरे वाह कुछ दिनों से पूछने का असर इतना सुन्दर काव्य ...!!!
    अब यही कह सकते हैं ...जल्दी जल्दी लिखते रहें ....
    बहुत सुन्दर रचना ...!!

    ReplyDelete
  7. प्रसाद एक बार पंत के साथ साकार हो गए।
    दिन के प्रकाश को संध्या
    ढँक अरुणांचल से अपने
    दे थपकी सुला रही है
    है लीन दृगो में सपने
    कविता का स्वर कभी समसामयिक है तो कभी आत्माभिव्यक्ति ...
    पर हाय ! चकोरी भूली
    शशि ने भावुकता खोई
    है गह्वर चन्द्र- ह्रदय में
    ले गया चुरा चित्त कोई .
    हम तो बस आपके कवित्त पर मोद ही मनाते हैं
    निज धवल धाम से निशिपति
    गगनांगन शुभ्र बनाते
    लख तिमिर पलायन उडगण
    हँस हँस कर मोद मनाते

    ReplyDelete
    Replies
    1. हंसी का स्माइली छूट गया था :):):):)

      Delete
  8. वैसे तो आप लिखते ही कमाल का है उसमें कोई दो राय नहीं है :-)इस बार भी बहुत ही जानदार कविता लिखी है आपने, मगर इस बार अंतिम पंक्तियों ने बहुत ही प्रभावित किया मुझे बेहतरीन काव्य आशीष जी लिखते रहिए....शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. प्रकृति का मनोरम चित्रण .... बहुत सुंदर ... उत्कृष्ट रचना

    ReplyDelete
  10. एक और बेहतरीन पोस्ट के लिए बधाइयाँ !

    ReplyDelete
  11. वाह ... बहुत खूब।

    ReplyDelete
  12. सारे टिप्णिकारों की टिप्पियां मेरी मान लीजिए.....ज्यादा कुछ नहीं कह सकता।

    ReplyDelete
  13. वो भोली बाल चकोरी
    खो बैठी सुध बुध सारी
    लख निज प्रिय शशलांछन की
    शरद -सुन्दरता न्यारी
    बहुत सुन्दर कविता है आशीष जी. चलिए, अब हम अभी से कहना शुरू कर देते हैं :)

    ReplyDelete
  14. और हाँ, इस्मत का शेर सचमुच बहुत अच्छा है, जिसे आपने अपने हैडर में लगाया है :)

    ReplyDelete
  15. kash mere pass shabd hote ki aapki rachna ke liye comment kar pata...:(
    sach me aap kee rachna aapke dheel dhaul se mel nahi khati :)

    ReplyDelete
  16. प्रकृति का बहुत सुंदर वर्णन
    पर पूरी कविता समझने के लिये समय चाहिये होता है भाई,,हाँ इसी बहाने बड़े बड़े प्रसिद्ध कवियों को प्रतिदिन याद कर लेती हूँ मैं :)

    धन्यवाद वंदना :)

    ReplyDelete
  17. थोड़ी देर से पर समझ में आई कविता.....:-)

    ReplyDelete
  18. itni nirmal aur pawan rachnaa padh kar man kitna khush ho jata hai kahna mushkil hai, aur sath hi sath hindi ka sabdkosh gyaan bhi badh jata hai ...
    waise bhaai wakai aap khan the etne din...

    ReplyDelete
  19. इसे कहते हैं कविता और इसी को कहते हैं शब्द-चयन | आपकी कविता पढ़ कर कक्षा १२ के हिंदी के घंटे की याद आ गई |

    ReplyDelete
    Replies
    1. ही ही ही ..तभी तो मैं कहती हूँ कि उसी तरह कृपया सन्दर्भ भी दिया करें :)

      Delete
  20. उत्कृष्ट...सुंदर शब्द-संयोजन !!

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर पोस्ट,काबिले तारीफ ।
    मेरे नए पोस्ट - "क्या आप इंटरनेट पर मशहूर होना चाहते है?" को अवश्य पढ़े ।धन्यवाद ।
    मेरा ब्लॉग पता है - harshprachar.blogspot.com

    ReplyDelete
  22. दिन के प्रकाश को संध्या
    ढँक अरुणांचल से अपने
    दे थपकी सुला रही है
    है लीन दृगो में सपने ..

    वाह ... सदा की तरह सुन्दर शब्द संयोजन .... भाव प्रधान और कहन की स्पष्टता लिए ... बेहतरीन रचना ...

    ReplyDelete
  23. पढ़कर साहित्य के गाढ़ेपन में उतर गया।

    ReplyDelete
  24. अति निमिड तिमिर ने धीरे
    निज कृष्ण प्रकृति के बल से
    अम्बर- प्रदेश में आकर
    अधिकार जमाया छल से
    इन पंक्तियों के शब्द - भाव खास पसंद आये.
    बाकी पूरी कविता आनंददायक है ...हम समझ २-३ बार पढ़ने पर ही आती है:)

    ReplyDelete
  25. सुंदर शब्द योजना.तरल भावस्थिति. अनोखी रचना.धन्यवाद.

    ReplyDelete
  26. कुछ शब्द तो पल्ले नहीं पड़े। जैसे...

    जलदो,निमिड,शशलांछन

    अनु जी का पहला कमेंट फिर पढ़ा।:)

    ReplyDelete
  27. हिंदी के क्लिष्ट मगर सुन्दर शब्दों ने कविता को अलंकृत किया !
    कुछ शब्दों के अर्थ ढूँढने पड़ेंगे !
    लाजवाब !

    ReplyDelete
  28. अकथ प्रेय का कथ्य मुक्ताभ सा है..

    ReplyDelete
  29. bahut hi sunder shabdo se guthi kavya rachna ...

    ReplyDelete
  30. सुन्दर कल्पना और तदनुकूल भाषा- सुन्दर काव्य-रचना!
    आशीष जी ,आप विशेष शब्दों के अर्थ नीचे दे दिया करें तो भाव एकदम सबकी समझ में आ जायेगा और उन सुन्दर ,साहित्यिक शब्दों के प्रसार से भाषा का रूप और सँवरेगा.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुन्दर और सार्थक सृजन, बधाई.

      कृपया मेरे ब्लॉग" meri kavitayen " की नवीनतम पोस्ट पर पधारकर अपना स्नेह प्रदान करें, आभारी होऊंगा .

      Delete