Friday, March 2, 2012

वंचिता

संध्या ने नभ के सर में 
अपनी अरुणाई घोली 
दिनकर पर अभिनव रोली 
बिखरे भर भर झोली 

रंगीन करों में उसके 
देख  रंगभरी पिचकारी 
पश्चिम के पट में छिपने 
भागे  सहस्र करधारी

धूमिल प्रकाश  में लख यह 
नभ-रंगभूमि की लीला 
नत -नयना नलिनी का मुख
मुरझाया हो कर पीला

तब आ कर अलि -बालाएं 
निज मृदु गुंजन गानों में 
प्रिय सजनी सरोजनी को 
है समझाती  कानों में 

सखी ! सहज कुटिल इस रवि की 
यह लीला नित ही होती 
अब कठिन बना निज मृदु उर 
क्यों अवनत -बदना   रोती 

34 comments:

  1. Bahut hee sundar,komal geyta liye hue!

    ReplyDelete
  2. बहुत ही प्यारी और भावो को संजोये रचना......

    ReplyDelete
  3. संध्या ने नभ के सर में
    अपनी अरुणाई घोली
    दिनकर पर अभिनव रोली
    बिखरे भर भर झोली

    रंगीन करों में उसके
    देख रंगभरी पिचकारी
    पश्चिम के पट में छिपने
    भागे सहस्र करधारी
    कमाल की होली खेली है प्रकृति ने... बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  4. तब आ कर अलि -बालाएं
    निज मृदु गुंजन गानों में
    प्रिय सजनी सरोजनी को
    है समझाती कानों में

    अभी तो बस कमाल है! बाक़ी बाद में!!

    ReplyDelete
  5. संध्या ने नभ के सर में
    अपनी अरुणाई घोली
    दिनकर पर अभिनव रोली
    बिखरे भर भर झोली .
    मैं तो इन खूबसूरत शब्दों से ही बाहर नहीं निकल पाती...कमाल है.
    प्रकृति का यह रूप कितना मनोहारी बन पड़ा है.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चित्रण किया , साथ ही आपका प्रकॄति प्रेम और उसकी समझ भी इस रचना में स्पष्ट रूप से दिखती है ........

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर शब्दों में प्राकृतिक वर्णन ... उत्कृष्ट रचना । :)

    ReplyDelete
  8. धूमिल प्रकाश में लख यह
    नभ-रंगभूमि की लीला
    नत -नयना नलिनी का मुख
    मुरझाया हो कर पीला... kalatmak, bhawnatmak

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुंदर भावाव्यक्ति बधाई

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुंदर शब्द संयोजन से सजी बेहतरीन भावाव्यक्ति...

    ReplyDelete
  11. अद्भुत चित्रण करते शब्द.....

    ReplyDelete
  12. बड़ी जलवेदार उपमायें हैं। :)

    ReplyDelete
  13. वाह..
    बहुत सुन्दर...
    शब्दों और भाषा पर आपकी पकड़ काबिले तारीफ़ है...
    मेरे ब्लॉग पर आपकी उपस्थिति सुखद लगी..
    शुक्रिया.

    ReplyDelete
  14. सूर्य का प्रकाश के बदलने के साथ ही भाव बदलने लगते हैं।

    ReplyDelete
  15. सखी ! सहज कुटिल इस रवि की
    यह लीला नित ही होती
    अब कठिन बना निज मृदु उर
    क्यों अवनत -बदना रोती
    जीवन का मर्म छुपा है यहाँ ...
    कितनी सहजता से आपने अनमोल भावों को उकेरा है ...!!
    मानना पड़ेगा आपको ....!!!
    अद्भुत पकड़ कलम पर ....!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. अनुपमा जी , आभार आपका मनोबल बढ़ाने खातिर

      Delete
  16. संध्या ने नभ के सर में
    अपनी अरुणाई घोली
    दिनकर पर अभिनव रोली
    बिखरे भर भर झोली

    कविता में प्रयुक्त हुए अति सुंदर शब्दों जैसे शब्द और भाव नहीं हैं मेरे पास
    इसलिये केवल शुभकामनाएं दे रही हूं

    ReplyDelete
    Replies
    1. जहेनसीब . शुक्रिया .

      Delete
  17. इस रचना की संवेदना और शिल्पगत सौंदर्य मन को भाव विह्वल कर गए हैं। मानवीय संवेदना की आंच में सिंधी हुई ये कविता हमें मानवीय रिश्ते की गर्माहट प्रदान करती है।
    लगता है फगुनाहट छा गया है।

    ReplyDelete
  18. रंगों के पर्व में विविध रंगों से सजी सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति| होली की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  20. ट्रेलर तो उसी दिन देख लिया था मूवी सुपर्हिट है

    ReplyDelete
  21. रवि की लीला नित ही होती..पर वंचिता भी न धैर्य खोती .
    ह्रदय में मध्यम-मध्यम स्पन्दन करती हुई रचना व कोमलता लिए शिल्प .

    ReplyDelete
  22. रंजना जी की मेल से प्राप्त टिप्पणी .
    क्या कहूँ, विमुग्ध और निःशब्द कर दिया आपकी इस रचना के सौन्दर्य ने..
    प्रशंशा हेतु शब्द नहीं मेरे पास...माता आपकी लेखनी को प्रखरता दें, सदा ऐसे ही सहाय रहें..
    ब्लागस्पाट न खोल पाने के कारण प्रविष्टि पाठ से वंचित थी..

    सादर,
    रंजना.

    ReplyDelete
  23. रंग-पर्व को अतिरिक्त रंगत दे गयी आपकी रचना .......:)

    ReplyDelete
  24. रंगीन करों में उसके
    देख रंगभरी पिचकारी
    पश्चिम के पट में छिपने
    भागे सहस्र करधारी ...

    ये प्रभाव रंगीन हाथों का है या पिचकारी में भरे रंगों का ...
    बहुत ही सुन्दर काव्य आशीष जी ...
    आपको और परिवार में सभी को होली की शुभ कामनाएं ...

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर हृदयस्पर्शी भावाभिव्यक्ति....
    होली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर प्रस्तुति. खूबसूरत तस्वीर....

    आपको सपरिवार रंगों के पर्व होलिकोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ......!!!!

    ReplyDelete
  27. वाह...........

    बहुत सुन्दर...
    अदभुद शब्द संयोजन...लाजवाब अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  28. holi aur prkriti ko jod anupam shbd rang upasthit kiye hain Aashish ji .....

    kmal karte hain aap bhi ....:))

    ReplyDelete
  29. शब्दों की रंगोली भा गई।

    ReplyDelete