Friday, February 10, 2012

मधु -उत्सव

कमनीय  -लता जो चढ़ी जा रही, 
मन मुदित हो रहा तरुवर है 
अमृत रस अब बरस रहा, 
पुलकित हो रहा सरवर है 

चारू -चन्द्र की चितवन, 
चित्त को चंचल  कर देती  
धवल चादिनी राते, 
सागर में कोलाहल  भर देती

दिग दिगंत  आमोद भरा 
मकरंद हुई हिम कणिका
सागर उन्मत्त कलोल भरा 
फेनिल फन चमके मणि सा 

मधुमास पल्लवित धरती पर , 
पीताम्बर तन पर डाले
किसलय कुसुम सुगन्धित मदिर 
अनंग प्रफुल्लित डाले गलबाहें 

धरनी के राग  वितान तने
आकांक्षा-तृप्ति की संगति को 
अभिनव क्रीडांगन है सजा धजा 
कौतुक-चेतना देता काम-रति को 


27 comments:

  1. बसंत तो ठीक है..पर मैं तो शब्दकोष लेकर बैठी हूँ.यूँ पढ़ना बेहद अच्छा लग रहा है.सुन्दर शब्द,प्रवाह

    ReplyDelete
  2. इस उत्सव का मौसम भी है मौका भी ..मनाइए ..बहुत सुन्दर भाव और शब्द संयोजन .उत्कृष्ट रचना

    ReplyDelete
  3. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर शाब्दिक चयन..... उम्दा रचना

    ReplyDelete
  5. रस से सराबोर कर गया यह प्रवाह..

    ReplyDelete
  6. वाह!!!बहुत ही सुंदर शाब्दिक चयन से सजी एक बेहद खूबसूरत रचना...आभार

    ReplyDelete
  7. सुंदर शब्दों के संयोजन से रची रचना अच्छी लगी आभार .....

    ReplyDelete
  8. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है नयी पुरानी हलचल पर कल शनिवार ११-२-२०१२ को। कृपया पधारें और अपने अनमोल विचार ज़रूर दें।

    ReplyDelete
  9. इस कविता की व्याख्या नहीं की जा सकती। कोई टीका नहीं लिखी जा सकती। सिर्फ महसूस की जा सकती है। इस कविता को मस्तिस्क से न पढ़कर दिल के स्तर पर पढ़ना जरूरी है – तभी यह कविता खुलेगी।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर शब्द संयोजन ....
    बेहतरीन रचना.....

    ReplyDelete
  11. मधुमास पल्लवित धरती पर ,
    पीताम्बर तन पर डाले
    किसलय कुसुम सुगन्धित मदिर
    अनंग प्रफुल्लित डाले गलबाहें ... गुलमर्ग , खिलनमर्ग सा बसंत

    ReplyDelete
  12. aapki kavita hamesha k tarah pure hindi, pure feelings ka great combination hoti hai .. jise dil dimag dono ko sath rakh kar hi padne par completw anand milta hai

    ReplyDelete
  13. मधुमासी मादकता से बौराया मन..सुगन्धित, मदिर.. अत्यंत सुन्दर लेखन..

    ReplyDelete
  14. मनोज कुमार जी ने सही तो कह दिया …………अब कहने को क्या बचा………………दिल मे उतर गयी।

    ReplyDelete
  15. बहुत खूबसूरत...
    उत्तम...

    ReplyDelete
  16. बसंत शब्दों के झुरमुट से झांकने लगा है।
    बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  17. मधुमास पल्लवित धरती पर ,
    पीताम्बर तन पर डाले
    किसलय कुसुम सुगन्धित मदिर
    अनंग प्रफुल्लित डाले गलबाहें ....
    Pravaahmay ... sundar rachna ... prakriti aur prem jab mil jaate hain to aise hi kaavy ka srijan hota hai .... uttam bhaav ....

    ReplyDelete
  18. दिग दिगंत आमोद भरा
    मकरंद हुई हिम कणिका
    सागर उन्मत्त कलोल भरा
    फेनिल फन चमके मणि सा
    बहुत सुन्दर, बासन्ती गीत है आशीष जी.

    ReplyDelete
  19. aashish ji
    hamesha ki tarah hi shabdon ka sundar samanjasy v ek layatmakta si jhalakti hai aapki rachna me .man aanadit ho gaya is rachna ko padh kar-----
    badhai
    poonam

    ReplyDelete
  20. दिग दिगंत आमोद भरा
    मकरंद हुई हिम कणिका
    सागर उन्मत्त कलोल भरा
    फेनिल फन चमके मणि सा
    madhur geet aur sundar bhi

    ReplyDelete
  21. सुन्दर! कमाल वसंत का है या आपकी काव्य-प्रतिभा का? काव्य प्रतिभा का होगा अन्यथा अपने बगीचे के गदराये गेन्दे के फूल तो मैं भी देखता हूं - बिना एक पंक्ति भी लिखे!

    ReplyDelete
    Replies
    1. कमाल तो बसंत का ही है सर , मै अकिंचन तो बस यूँ ही माध्यम बन गया . गेंदा फूल हो या पिटुनिया सभी बसंतियाते तो हैये है ना .

      Delete
  22. मधुमास पल्लवित धरती पर ,
    पीताम्बर तन पर डाले
    किसलय कुसुम सुगन्धित मदिर
    अनंग प्रफुल्लित डाले गलबाहें

    वाह.....
    बसंत ऋतू का अद्भुत वर्णन ....

    ReplyDelete
  23. धरनी के राग वितान तने
    आकांक्षा-तृप्ति की संगति को
    अभिनव क्रीडांगन है सजा धजा
    कौतुक-चेतना देता काम-रति को .

    मधु मास की अद्भुत छटा बिखेर दी. बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  24. मुग्ध हुए है हर सिंगार
    बन सेज पिया की,
    चंचल नैनो की चितवन
    बोलती बात हिया की.
    यह मधुमास की रात
    मत करो जाने की
    तुम बात.

    ReplyDelete