Wednesday, August 21, 2013

सूरज की यात्रा

बधशाला के अलावा  बहुत दिनों से मेरे ब्लाग पर  और कुछ नहीं पोस्ट हुआ . परिवर्तन के तौर पर फेसबुक पर अपनी कोलकाता यात्रा के दौरान डाले गए इस अनुभव को ब्लॉग पर डालने के कई मित्रो के सुझाव के बाद हिम्मत पड़ी . तो नोश फरमाएं .


कोलकाता जाना है . अभी १० बजे जाने वाली हावड़ा राजधानी एक्सप्रेस ८ घंटे लेट बताई जा रही है . गनीमत है की घर बैठे इन्टरनेट से पता चल जाता है की ट्रेन कितनी लेट है और कहाँ है अभी, पहले जाने कितनी बार स्टेशन पर घंटों इंतजार करना पड़ा है ट्रेन का . १२ घंटे लेट चली है राजधानी एक्सप्रेस कानपुर से कोलकाता के लिए , गति देखकर कच्छप महाराज भी शरमा जाये . बाहर कोहरे की धुंध है और अंदर यात्रियों की उच्छ्वास की . ऐसे ही किसी वाहन की यात्रा करते समय किसी महापुरुष के दिमाग की उपज होगा ".नौ दिन चले ढाई कोस" वाला मुहावरा .

.
. सामने वाली बर्थ पर एक भद्र महिला अपने २ पुत्रियों के साथ यात्रा कर रही है . बच्चियों की उम्र यही कोई ४-५ साल होगी . लंच के बाद महिला ने उनसे कहा ऊपर की बर्थ पर जाकर सोने के लिए .कैसे कहा इसकी एक बानगी देखिये . "बेटा नीनी यु वांट टू गो अपस्टेयार्स देन क्लाइंब फ्रॉम प्रापर प्लेस" बच्ची को प्रापर प्लेस मेरे कंधे दिखे और उसने झट डिमांड कर दी. ऊपर के बर्थ पर सोते हुए नीनी की बड़ी बहन ५ वर्षीय बड़ी बहन टिमटिम मासूमियत से "पटा ले मुझे मिस काल से " गाते हुए अचानक अपनी मम्मी को आवाज देती है "मम्मा नेचर इज कालिंग ". मै असमंजस में हूँ की कम्बल से मुंह ढक लूं या या प्रॉपर प्लेस यानि अपना कन्धा फिर से ऑफर करूँ..


 निनी और टिमटिम दोनों सो गई है और उनकी मम्मा सिडनी शेल्डन को बांच रही है . आंग्ल भाषा की किताबे लुभाती तो बहुत है और यात्रा में लेकर भी चलता हूँ ताकि पडोसी यात्री पर पढ़ा लिखा होने का एम्प्रेस्सन रहे लेकिन सिमित ज्ञान आड़े आता है और बस कुछ पन्ने पढ़कर तकिया के नीचे .ट्रेन विन्ध्याचल में खड़ी है . सामने विन्ध्य पर्वत श्रेणी पर हरीतिमा वेणियों की तरह गुंथी दिख रही है और वेणी याद आते ही मन बल्ले बल्ले करने लगता है जाने क्यूँ .  धुंध गहराने लगी है , विन्ध्य पर्वत श्रेणिया अब नजरों से ओझल हो चुकी है , भगवन मार्तंड छुप गए है मुगलसराय आने वाला है . निनी उठकर आँखे मीच रही है .उनकी मम्मा बिना पूछे बता रही है की उनके पति ओ एन जी सी के देहरादून मुख्यालय में कार्यरत है . पहली बार मेरी नजर उनकी हाथो की उंगुलियों पर गई जब निनी के लिए ग्वावा प्लेटफोर्म से लेकर मैंने उन्हें दिया .देखिये आपलोग अतिश्योक्ति मानना हो तो मान लीजियेगा . उनकी उंगुली में कई सारे सूरज चमक रहे थे . सूरज से आंख मिचोनी खेलने का ताब ज्यादा देर रह नहीं सका.


खिड़की से परदे हटाकर देखा तो अँधेरे के साम्राज्य में जुगनुओं की रौशनी और नितीश कुमार के राज्य में कही दूर दूर टिमटिमाती रौशनी दिखाई पड़ रही थी .कोच अटेंडेंट से पुछा की अगला स्टोपेज कौन सा है , उससे पहले की निनी की मम्मी बोल पड़ी "गया" . जाने मुझे क्यू ऐसा महसूस होता है की पथ प्रदर्शक हो या अगला स्टोपेज बताने वाला हमेशा आत्मविश्वास से लबरेज रहता है . सूरज वाली उंगुलियों के चेहरे पर वो दिखा एक मुस्कान के साथ .आत्मविश्वास वाली जी.
 .
गया से आगे निकल चुके है ., ट्रेन में कुछ बुद्ध धर्मावलम्बी अपने चोगेनुमा वस्त्र में चढ़े है. मंगोलियन लुक वाले है. शायद जापान से होगे. मगध राज्य , अशोक , बुद्ध और गया, स्वर्णिम इतिहास. भूख लग आई है . ट्रेन लेट होने से खाने में राशनिंग कर रहे है रेलवे वाले .टिमटिम और नीनी ने खाने के लिए शोर मचाना शुरू कर दिया है.. उनकी मम्मी ने अपने बैग से कुछ निकाला . नजर पड़ी तो जुबान गीली हो गई . कुछ लजीज व्यंजन दिख रहा था . जाने क्यू मुझे शिवानी की "सती"कहानी याद आई .उन्होंने शायद ताड़ लिया हो या मेरे चेहरे पर लिखा हो की मुझे भूख लग रही है. ऑफर मिल गया और मैंने लपक भी लिया। सूरज वाली उँगलियों की पाक कला में भी आत्मविश्वास झलक रहा था .

. कानपुर से कोलकाता की यात्रा को समाप्त हुए १७ घंटे होने वाले है लेकिन अभी भी हैंगओवर चल रहा है .रात्रि के भोजनापरांत निनी और टिमटिम खेलने के मोड में आ गयी और फिर उन्होंने प्रापर प्लेस के स्वयंभू मालिक यानि मुझे द्युत क्रीडा(ताश के पत्ते ) में शामिल होने को मजबूर किया . मै सोच रहा था की मनुष्य की हर यात्रा इतनी सुखद होती अगर उसके जीवन में कोहासा नहीं होता . १० बजने को थे , अटेंडेंट महोदय ने बताया की ट्रेन २ बजे के पास कोलकाता पहुचेगी. आँखों में नींद तो नहीं थी या शायद वो बंद नहीं होना चाहती थी लेकिन रात भर जागरण न करना पड़े , इस डर से सोते सूरज को शुभरात्रि बोलते हुए हम निद्रा की आगोश में चले गए .ये पता था की टिमटिम , निनी और उनकी मम्मा कोलकाता से पहले आसनसोल में उतर जायेंगे. भीनी भीनी यादे अब मेरी संपत्ति है .


16 comments:

  1. बढिया है। चकाचक हैं। कविता के अलावा ई सब भी लिखा करिये। कविता ही लिखते रहेंगे त सब लोग संग्रह छपाने के लिये हल्ला मचायेंगे। फ़िर आप छपा के प्रसाद की तरह बांटते रहियेगा जब तक खल्लास नहीं हो जाता सब प्रसाद।

    अरे बाप रे ई कमेंट करेंगे त सब कवि लोग दौरा लेगा। हम इसका खण्डन करते हैं। अगर इसके बाद भी किसी ने कुछ कहा त हम कहेंगे हमारे लिखे को तोर-मरोर के समझा गया। :)

    पैराग्राफ़ में जरा दूरी बढ़ाइये। अलग-अलग करिये।

    जबर रिपोर्ताज है। सच्ची। :) :)

    ReplyDelete
  2. मनुष्य की हर यात्रा इतनी सुखद होती अगर उसके जीवन में कोहासा नहीं होता ....कितनी सुखद यादें साथ लिए फिरता है ये बनजारा मन ... :)

    ReplyDelete
  3. थोड़ सजाना पड़ेगा। जब आप लिख रहे थे यात्रा के समय तब अधिक आनंद आया था। :)

    ReplyDelete
  4. बढिया यात्रा

    ReplyDelete


  5. वाह आशीष यह"संस्मरण" पढ़ चुकी हूँ पर टुकड़ों में...एक बार में पढ़ने में ज्यादा मज़ा आया ...जब मैं ही नहीं भूल पाई उन्हें ..तो आपके लिए तो यह निश्चित ही यादगार सफ़र रहा होगा ...मज़ा आ गया

    ReplyDelete
  6. मस्त मस्त मस्त..

    ReplyDelete
  7. वाह ... बढ़िया यात्रा संस्मरण ....

    ReplyDelete
  8. लाजवाब संस्मरण ......... ऐसा लगता रहा कि खुद ही यात्रा कर रही हूँ

    ReplyDelete
  9. kuch yaatraen yaadgaar hoti hain....:)
    badhiya yatra vrtaant.

    ReplyDelete
  10. एक अलग संसार दिखने को मिल जाता है रेलवे में।

    ReplyDelete
  11. फेसबुक पर तो पहले ही पढ़ चुके थे ..पर यहाँ पढ़ने का अगल ही मज़ा है ....बहुत बढिया

    ReplyDelete
  12. राखी जो भेजी ॥
    है रेशम की डोरी ...
    स्नेह से भारी ...

    जग से न्यारा ....
    मेरी आँखों का तारा ...
    है भाई मेरा ...

    बाट जोहती ...
    नित आशा सँजोती .....
    एक बहना ... ....

    आया सावन ....
    चहका है आँगन ....
    रेशम डोरी ...


    बड़े हैं भैया ...
    करूँ सादर नमन ....
    रक्षा बंधन ....


    राखी है मेरी ...
    नहीं मिथ्या बंधन ...
    टीका चन्दन ....

    छोटा है भाई ....
    आशीष से भर दूँ ॥
    अंगना तेरा ...

    अनामिका को स्नेह ...आंटी को नमस्ते ... .....पहले तो दे ही चुकी हूँ ....आज पुनश्च राखी की अनेक अनेक शुभकामनायें .....!!!अब ब्लॉग पर सतत कवितायें डालते रहना .....!!!:))

    ReplyDelete
  13. सुन्दर संपत्ति साझा करके आनंदित किया..

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया ..... सुंदर यात्रा संस्मरण

    ReplyDelete
  15. अनोखा जीवन संसार है रेल का कम्पार्टमेंट ही ...
    शुक्रिया इस रोचक संस्मरण के लिए ...

    ReplyDelete