Saturday, February 26, 2011

मै लौट आया

इन दिनों कुछ मौसम बदला है
कलतक चुभा करती थीं ये खिड़कियाँ
अब नज़रें पीछा करतीं हैं
मुक्त गगन के उड़ते पंछी
इन दिनों कुछ तो बदला है
सुगंध हवाओ में रची बसी
खिड़की की  बंद कगारों से
टकराकर एहसास भी लौट जाते थे
सुकून कही किसी कोने में दुबककर
अतृप्त से मन में खो जाते थे
निरभ्र आकाश अहर्निश
मेरे खालीपन का द्योतक था
इस लौकिक काया  में कुछ भी
अब्दों से घटा ना कुछ रोचक था
सजल नैनो में तिमिर था  छाया
स्पंदित होती थी  व्यथा
मन के अरण्य में विकलता
संज्ञाशून्य विचरती थी  यथा
कल हमने खिड़की के पट खोले
विभ्रम की घडिया अतीत हुई
कलरव इस  सांध्य मलय का
मलयानिल मकरंद घोले
अब पट रजनी के भाते है
प्रेम- सुतीर्थ स्नान सुहाता है
प्राण पपीहा की सरस ध्वनि
जीवन वर्त्ति सा भाता है ..

36 comments:

  1. इस रचना की संवेदना और शिल्पगत सौंदर्य मन को भाव विह्वल कर गए हैं। कविता में मनःस्थिति कौशल के साथ व्‍यक्‍त होती है। उदासी का घनत्व कविता में साफ़-साफ़ दीखता है। पर साथ ही अपने को सिरजने की मौन जद्दोजहद को आपने परिचित बिंबों से उतारा है। यह स्पष्ट है कि शिल्प के वैशिष्ट से कविता असाधारण हो गई है।

    ReplyDelete
  2. प्राण पपीहा की सरस ध्वनि
    जीवन वर्त्ति सा भाता है
    bahut sunder
    ..

    ReplyDelete
  3. इन दिनों कुछ मौसम बदला है ... kuch to mann badla hai, badhiyaa

    ReplyDelete
  4. संयोग वियोग के मिश्रित भावों की श्रृंगारिक कविता

    ReplyDelete
  5. सबसे पहले तो लौट आने की बधाई ....
    मनोज जी ने तो सब कुछ कह ही दिया है ....

    अद्भुत भाषा विन्यास है आपके पास ....

    बहुत ही सशक्त रचना से शुरुआत ....

    बधाई स्वीकारें ....



    औए ज़िन्दगी में आई इस बदलाहट की

    ढेरों मुबारकबाद आपको .....!!

    ReplyDelete
  6. रचना में सुन्दर शब्दों का प्रयोग किया है.
    मनोज जी ने काफी अच्छी समीक्षा कर दी है

    आपको बधाई व शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर सशक्त प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  8. प्रकृति के अंगों का प्रयोग जीवन के संदर्भों में सुन्दरतम ढंग से।

    ReplyDelete
  9. कल हमने खिड़की के पट खोले
    विभ्रम की घडिया अतीत हुई ...

    Let Bygones be bygone !

    Start living in present . Each and every moment is precious .

    .

    ReplyDelete
  10. सुंदर बिम्ब और उनके साथ बेहतरीन भावों को शाब्दिक अलंकरण के साथ पेश किया है आपने.....

    ReplyDelete
  11. शब्दों का सुरुचिपूर्ण प्रयोग ...प्रकृति से लिए बिम्ब ...अतीत से निकल कर सकारात्मकता की ओर बढने का प्रयास ...सब कुछ रचना में दिख रहा है ...बहुत सुन्दर शिल्प है ...अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  12. शिल्प और कथ्य की बातें तो गुणीजन जाने ..मौसम बदल गया ,भाव बदल गया यकीनन वक्त भी बदलने वाला है.
    खूबसूरत भाव ,सुन्दर शब्द और सकारात्मक सोच ने बहुत ही सुन्दर बना दिया है कविता को.

    ReplyDelete
  13. मलयानिल मकरंद घोले
    अब पट रजनी के भाते है
    प्रेम- सुतीर्थ स्नान सुहाता है
    प्राण पपीहा की सरस ध्वनि
    जीवन वर्त्ति सा भाता
    touching lines

    ReplyDelete
  14. अब नज़रें पीछा करतीं हैं
    मुक्त गगन के उड़ते पंछी
    इन दिनों कुछ तो बदला है
    सुगंध हवाओ में रची बसी
    खिड़की की बंद कगारों से
    टकराकर एहसास भी लौट जाते थे
    सुकून कही किसी कोने में दुबककर
    अतृप्त से मन में खो जाते थे

    जीवन के अनुभवों के कई रंग हैं।
    आपकी इस कविता में आशा के रंग की झलक परिलक्षित हो रही है।

    ReplyDelete
  15. लग रहा है आपने परिवर्तन के युग का वैयक्तिक स्तर पर आभास कर लिया है। साधुवाद।

    ReplyDelete
  16. शब्दों का प्रयोग देखने लायक है.क्या बात है.

    ReplyDelete
  17. वाह ...बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ।

    ReplyDelete
  18. अत्यंत प्रभावशाली एवं मार्मिक ढंग से मनोभावों को आपने अभिव्यक्ति दी है....अभिभूत हो गया मन पढ़कर....

    ReplyDelete
  19. सुदर शब्दों का समन्वय भावमयी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  20. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 01-03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  21. सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  22. सही है। अंदाजेबयां बता रहा है - बदले-बदले सरकार नजर आते हैं। :)

    ReplyDelete
  23. बहुत सही कहा आपने...बिना पट खोले आप रोशनी से नहीं मिल सकते...

    ReplyDelete
  24. इन दिनों कुछ मौसम बदला है
    कलतक चुभा करती थीं ये खिड़कियाँ ...

    सुन्दर और भावपूर्ण रचना । बधाई।

    ReplyDelete
  25. सुंदर रचना ,सब कुछ तो मनोज जी ने कह दिया ,बधाई

    ReplyDelete
  26. aashish ji
    aapki yah rachna itani achhi lagi ki main ise bar -bar padh gai.
    shabdo ka adhbhut sangam aapki rachna ki bhavabhivykti ko aur bhi shobhaymaan kar deta hai.
    bahut hi man ko gahre chhooti ek jivant prastuti .idhar main lagataar kaffi dino se net par nahi aa
    pa rahi hun.thoda swasthy theek nahi chal raha hai.
    asha hai aap der se post karne v comment karne par der hone par xhma karenge.
    dhanyvaad
    poonam

    ReplyDelete
  27. आज दुबारा आपकी रचना खींच लायी...

    सत्य है ह्रदय द्वार खुल जाए और उसमे कोमल मदिर प्रणय पवन प्राणों तक पहुंचे तो पल में संसार बदल जाता है....

    बहुत ही मनमोहक रचना रची है आपने......

    ReplyDelete
  28. सुन्दर और भावपूर्ण रचना । बधाई।

    ReplyDelete
  29. मौसम कैसा भी हो बदलता जरुर है ...
    खिडकियों से लौट आयी सुहानी बहार की बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  30. इन दिनों कुछ मौसम बदला है
    कलतक चुभा करती थीं ये खिड़कियाँ
    अब नज़रें पीछा करतीं हैं
    मुक्त गगन के उड़ते पंछी
    Bahut khoob!

    ReplyDelete
  31. प्राण पपीहा की सरस ध्वनि
    जीवन वर्त्ति सा भाता है ..bhut acche se sabdo ko piroya hai apne.... very nice...

    ReplyDelete
  32. बेहद गहन और प्रभावशाली रचना।

    ReplyDelete
  33. वाह वाह... खुबसूरत शब्द और भाव संयोजन....
    मनोहारी रचना...
    सादर...

    ReplyDelete