Sunday, July 16, 2017

इह मृगया

सुनो तुम ईवा हो 
कभी सोने के रंग जैसी 
तो कभी फूलों की उमंग जैसी 
कभी कच्ची मखमली घास की छुवन
युग ,संवत्सर , स्वर्ग और भुवन 
तुम्हारा शरीर क्या है
दो नदियाँ मिलती है अलग होती है
तुम भाव की नदी बनकर धरती की माँझ हो
भाव की देह हो भाव का नीर हो
भाव की सुबह और भाव की सांझ हो
तुमने सुना है देह वल्कल क्या चीज़ है ?
तुम्हारे दोनों ऊरुओं के मध्य
घूमता है स्वर्णिम रौशनी का तेज चक्र
उत्ताप से नग्न वक्ष का कवच
मसृण और स्निग्ध हो जाता है
तुम रति हो फिर भी
तुम्हारी भास्वर कांतिमय देह
किसी कामी पुरुष की तरह स्रवित नहीं होती
सुनो ! आकाश भी छटपटाता है
धरती बधू को बाँहों में घेरने के लिए
वधू -धरित्री की भी ऐसी आकांक्षा होगी
नहीं पता मै लिख पाया या नहीं
लेकिन ये है इह मृगया
जाने गलत है या सही .

18 comments:

  1. कठिन है समझना

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "थोड़ा कहा ... बहुत समझना - ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  3. इह मृगया का सुनहले शब्दों में भावपूर्ण अद्भुत वर्णन !

    ReplyDelete
  4. Replies
    1. यदि लेखनी की चुप्पी टूटती तो अच्छा होता ।

      Delete
    2. ब्लॉग की चाभी गुम हो गई है। कोशिश कर रहा हूँ।

      Delete
  5. Logon Utility Offers Best Bulk SMS Service - Cost Effective Pricing & Free Demo Assured

    Call: 8097785969

    The following SMS Service Provider Visit Website:
    Bulk SMS
    Bulk SMS Service
    SMS Broadcast
    Bulk SMS Gateway
    SMS Online

    ReplyDelete
  6. Shop for Skin Care products at on Skinorac.com offers on skin care products for eyes, face, lips, and more from best-selling brands to help target perfect face care specific high-performing skin concerns and revitalize your look.

    Visit Website: Skin Care

    ReplyDelete
  7. Techbuzz is a leading SEO Agency offers best SEO Company in Noida which helps you to get more website traffic.Get top SEO services from our SEO experts in Noida, Delhi

    ReplyDelete