Monday, May 26, 2014

प्रार्थना


छिपी हुई वो तेज राशि
आ ! अंतर आलोकित कर दे 
दुर्बलता के सघन तिमिर में 
ज्योतिर्मयी आभा भर दे


संपुट दुविधा का खोल लूँ 
प्रज्ञा हो अंतर्मन के लोल में 
तामस -तमस को घोल दूँ 
हो सुधा शाद्वल इस खगोल में 


अपना भूला मार्ग खोज लूँ
जिधर छिपी रत्नों की खान 
उनमे से एक दो बीन लूँ
आत्मिक बल , जाग्रति , उत्थान .

7 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन मिलिये नए मंत्रीमंडल से - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. इस प्रार्थना के लिये तो बस यही कहूँगी .... आमीन !!!

    ReplyDelete
  3. खुबसूरत अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर....
    आमीन!!

    अनु

    ReplyDelete
  5. अपना भूला मार्ग खोज लूँ
    जिधर छिपी रत्नों की खान
    उनमे से एक दो बीन लूँ
    आत्मिक बल , जाग्रति , उत्थान .

    बहुत सुन्दर.... अनुकरणीय सोच

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर शब्द और भाव !!

    ReplyDelete