Saturday, April 9, 2011

दृढ प्रतिज्ञता

लो  हो गयी आत्म सम्मान यज्ञ  की पूर्णाहुति
वैभव विलासिनी दिल्ली में , जगी जन अनुभूति
कर्मठता की प्रतिमूर्ति रवि , कब ढल सकता है
जलद पटल को भेद , व्योम में संबल भरता है

 भरा तुणीर शरों से, जन की आकाक्षाओ वाली
 कर में धन्वा ,धर्म अहिंसा की प्रत्यांचाओ वाली
कोटि जन मन से समर्थित ,शिष्ट सौम्य आचार
मन्त्र-मुग्ध-सा मौन चतुर्दिक् जन का पारावार,

हवन अग्नि बुझ चुकी, और आशा के दीप जगमग
अभी कहाँ विश्राम बदा है , मीलों है चलना डगमग
स्वजनों के हित में , इस युग तप का टंकार किया
हिमालय  शैल सा रहा अटल. कंचित  ना अहंकार पिया 


भ्रष्टाचार के पदघात से ,जन जीवन शुचिता से क्षीण हुआ
स्वर्ण मरीचि के भ्रम में , ह्रदय मानवता का  विदीर्ण   हुआ
जगो आर्यवर्त के सिंहो ,जाग्रति की  अलख  जगानी है
कृशकाया पर दृढ प्रतिज्ञ ने , गण मन में भर दी रवानी है ,




41 comments:

  1. .

    जगो आर्यवर्त के सिंहो ,जाग्रति की अलख जगानी है
    कृशकाया पर दृढ प्रतिज्ञ ने , गण मन में भर दी रवानी है ,

    Wonderful creation ! very powerful and inspiring .

    .

    ReplyDelete
  2. अन्ना जी की शुरुआत जबरदस्त रही पर पूर्णाहुति करने में जल्दबाजी हुयी. मुझे ऐसा लगता है कि कुछ मानवीय दुर्बलताए उभारने लगी थी थोड़ी देर बाद सरकार बिलकुल टूटने वाली थी पता नही क्या हुआ जो दो चेयरमैन वाली बात स्वीकार कर ली गयी. मुझे यह पटाक्षेप कुछ जचा नही. खैर शुरुआत मिल गयी है तो इसे आगे बढाया जाय.

    --

    ReplyDelete
  3. nirala ji kii yaad dila gayi aap kii kavita es kavita kii pukar se bhi agar bharat vanshi nahi jage to ab kab...? shayad shuruaat huyi hai

    ReplyDelete
  4. सिंह जगे, कोलाहल न हो,
    शुद्धि हेतु गंगाजल न हो?

    ReplyDelete
  5. यह वह काल ही है जब कविमन अन्ना पर न्योछावर होंगें -बहुत अच्छी कविता!
    बस मैनाक की जगहं हिमालय कर दें -मैनाक उड़ने वाले पहाड़ हैं एक जगह स्थिर नहीं रहते !

    ReplyDelete
  6. बहुत ही ओजस्वी गीत रचना दिनकर जी याद अ गयी बधाई भाई आशीष जी |

    ReplyDelete
  7. बहुत खूबसूरत शब्दों से रची उत्तम रचना ...दिनकर की "कुरुक्षेत्र" काव्यरचना याद आ गयी ...

    ReplyDelete
  8. आदरणीय अरविन्द जी
    मैंने तो केवल दृढ़ता और अटलता को दर्शाने के लिए मैनाक पर्वत का नाम लिखा था जो शायद हर पर्वत का गुण होता है . आप ने ये बताकर की मैनाक पर्वत हमारे पुराणों में उड़ने वाले पहाड़ का नाम है हमारे ज्ञान में वृद्धि की . आभार आपका .

    ReplyDelete
  9. जगो आर्यवर्त के सिंहो ,जाग्रति की अलख जगानी है
    कृशकाया पर दृढ प्रतिज्ञ ने , गण मन में भर दी रवानी है ,
    आपकी कविताओं में दिनकर की छाप स्पष्ट दृष्टिगोचर होती है.जो इस हिंदी ब्लॉग जगत में बहुत कम देखने को मिलता है.
    बहुत सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  10. काव्य के सभी रसों पर अच्छा अधिकार है. कभी प्रसाद कभी दिनकर और कभी काका हाथरसी.
    बहुत अच्छी कविता रची है. बधाई.

    ReplyDelete
  11. अभी कहाँ विश्राम बदा है , मीलों है चलना डगमग bilkul chalna hai nirantar , aur doosron ki pratiksha bhi nahi karni hai , khud ke kadam nirbhay ho badhane hain

    ReplyDelete
  12. भ्रष्टाचार के पदघात से ,जन जीवन शुचिता से क्षीण हुआ
    स्वर्ण मरीचि के भ्रम में , ह्रदय मानवता का विदीर्ण हुआ
    जगो आर्यवर्त के सिंहो ,जाग्रति की अलख जगानी है
    कृशकाया पर दृढ प्रतिज्ञ ने , गण मन में भर दी रवानी है ,


    आशीष जी .....
    अभी जयशंकर , कभी दिनकर , कभी निराला ....):

    क्या बात है .....

    भारती , जय, विजय करे
    कनक-शस्य-कमल धरे

    ReplyDelete
  13. हवन अग्नि बुझ चुकी, और आशा के दीप जगमग
    अभी कहाँ विश्राम बदा है , मीलों है चलना डगमग

    बहुत सुंदर...... ओजपूर्ण और सकारात्मक पंक्तियाँ....

    ReplyDelete
  14. हवन अग्नि बुझ चुकी, और आशा के दीप जगमग
    अभी कहाँ विश्राम बदा है , मीलों है चलना डगमग
    स्वजनों के हित में , इस युग तप का टंकार किया
    हिमालय शैल सा रहा अटल. कंचित ना अहंकार पिया.

    बहुत गहन और सुन्दर व्याख्या....
    कमाल के भाव लिए है रचना की पंक्तियाँ .......
    जयकृष्ण राय तुषार जी की ही तरह मुझे भी दिनकर जी की याद आ गयी.
    बधाई ।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर व ओजपूर्ण कविता।

    ReplyDelete
  16. भ्रष्टाचार के पदघात से ,जन जीवन शुचिता से क्षीण हुआ
    स्वर्ण मरीचि के भ्रम में , ह्रदय मानवता का विदीर्ण हुआ
    जगो आर्यवर्त के सिंहो ,जाग्रति की अलख जगानी है
    कृशकाया पर दृढ प्रतिज्ञ ने , गण मन में भर दी रवानी है ,


    हम चार दीवारी के अन्दर भले ही हिन्दू रहे या मुसलमान , चार दीवारी के बाहर हम भारतीय हैं और केवल भारतीय हैं.. आज का राष्ट्रधर्म और व्यक्ति धर्म दोनों ही यही है. यहाँ केवल सृजन है...., निर्माण है..., नवीन भारत का पुनर्जागरण है. यह किसी राजनीतिक की भाषा या प्रचार प्रसार नहीं, अपने अंतर्मन की आवाज है जो सिर्फ मित्रों और दोस्तों को हो सुनायी जा सकती है, दूसरों को नहीं. आज यही कार्य एक दायित्व मानकर राष्ट्रीयहित में एक आह्वान और एक निवेदन दोनों है. हमें अवांछनीय कार्यो को दृढ़ता से रोकना होगा. शार्टकट के सारे रास्ते और सुविधाशुल्क के प्रचलन पर दृढ़ता से रोक लगाना होगा. कम से कम हम स्वयं तो यह कार्य न करें. न अपनों को करने दे. संख्या हमारी अवश्य बढ़ेगी. आखिर हम भ्रष्टाचार, अनाचार, अत्याचार को कब तक सहें........क्यों सहें .......?

    ReplyDelete
  17. जगो आर्यवर्त के सिंहो ,जाग्रति की अलख जगानी है
    कृशकाया पर दृढ प्रतिज्ञ ने , गण मन में भर दी रवानी है

    बहुत ही प्रभावशाली कविता है।
    अन्ना जी के साथ पूरा देश एकजुट है।

    ReplyDelete
  18. भ्रष्टाचार के पदघात से ,जन जीवन शुचिता से क्षीण हुआ
    स्वर्ण मरीचि के भ्रम में , ह्रदय मानवता का विदीर्ण हुआ...

    बहुत अच्छी ओजपूर्ण कविता.... बधाई.

    ReplyDelete
  19. सशक्त अन्ना जी के लिए सशक्त ओजपूर्ण कविता।

    ReplyDelete
  20. आशीष जी बहुत बहुत धन्यवाद मेरी रचना पसंद आई |
    आपका लेखन भी बहुत प्रभावशाली है |मैंने अभी ही आपका ब्लॉग फोल्लो किया है |
    बधाई सशक्त लेखन के लिए .

    ReplyDelete
  21. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 12 - 04 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  22. विदीर्ण होते हृदय को एक आशा की ज्योति मिल ही गयी ...
    अन्ना कविताओं के सुपात्र है ...
    बेहतरीन !

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया लिखा आपने.रामनवमी की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  24. भ्रष्टाचार के पदघात से ,जन जीवन शुचिता से क्षीण हुआ
    स्वर्ण मरीचि के भ्रम में , ह्रदय मानवता का विदीर्ण हुआ
    जगो आर्यवर्त के सिंहो ,जाग्रति की अलख जगानी है
    कृशकाया पर दृढ प्रतिज्ञ ने , गण मन में भर दी रवानी है ,
    bahut hi sahi aur badhiyaa .

    ReplyDelete
  25. जगो आर्यवर्त के सिंहो ,जाग्रति की अलख जगानी है
    कृशकाया पर दृढ प्रतिज्ञ ने , गण मन में भर दी रवानी है ,

    बहुत खूब कहा है ...।

    ReplyDelete
  26. aashish ji
    bahut bahut badhai itni badhiya prastuti ke liye sachmuch ab yahi karne ki jarurat sabko hai.

    जगो आर्यवर्त के सिंहो ,जाग्रति की अलख जगानी है
    कृशकाया पर दृढ प्रतिज्ञ ने , गण मन में भर दी रवानी है ,
    behad hi jagrit karne wali shandaar post
    bahut abhut badhai
    poonam

    ReplyDelete
  27. अदभुत ,सम -सामयिक विषय वस्तुओं से जुडी कविताओं के अकाल में जोरदार बारिश

    ReplyDelete
  28. शानदार. बाकी जो कहना चाहिये था, सबने कह दिया :)

    ReplyDelete
  29. प्रभावशाली शब्दशैली की ओजपूर्ण कविता...

    ReplyDelete
  30. स्वजनों के हित में , इस युग तप का टंकार किया
    हिमालय शैल सा रहा अटल. कंचित ना अहंकार पिया.

    सुन्दर रचना...!

    ReplyDelete
  31. बहुत अच्छी कविता है बधाई.

    ReplyDelete
  32. आभासी क्रांति का स्‍पर्श-सुख.

    ReplyDelete
  33. प्रभावशाली कविता ....शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  34. सशक्त रचना ...प्रभावशाली भाषा !

    ReplyDelete
  35. कित्ती प्यारी सी कविता..बधाई.
    ________________________
    'पाखी की दुनिया' में 'पाखी बनी क्लास-मानीटर' !!

    ReplyDelete
  36. बेहतरीन..प्रभावशाली ..

    ReplyDelete