Saturday, May 12, 2012

माँ

 माँ को याद करने का कोई एक दिन, ये हमारी संकृति का अंग नहीं है . हम तो अपनी माँ को प्रतिदिन, प्रतिक्षण याद करते है . पाश्चात्य जगत में भावनाओ के सामयिक क्षरण , अभिकेंद्रित होते परिवार में शायद माँ शब्द वर्ष में एक बार याद करने लायक हो गया है .. माँ , वात्सल्य  , त्याग ,और स्नेह का समुद्र है . मातृ देवो भव हमारी संस्कृति का अभिन्न अंग है .इश्वर को भी सर्वप्रथम  त्वमेव माता ही कहा गया है . ये सच है की इस कालखंड में तमाम दुश्वारियों के बाद भी माँ का ममत्व अपनी संतान को पल्लवित होते हुए ही देखना चाहती है . ये सच है पूत कपूत सुने ,पर नहीं सुनी कुमाता


.माता के ओ आंसू कण
अमित वेदनाओ की माला
ह्रदय-चेतना -हारी हाला
अपमानो की विषम -ज्वाला
करती है जिनमे नर्तन
जो देखा माता के आंसू  कण

सोते प्राणों के आलय में
विस्मृत  गौरव -गान -निलय में
प्रतिपल होते  साहस-लय में
चुभ जाएँ तीखे शर बन
जो देखा माता के आंसू  कण


मुंदी हुई पलके खुल जाएँ
शौर्य-शक्ति हम में घुल जाएँ
मन में त्याग भाव तुल जाएँ
निज बलि दे पोंछे तत्क्षण
अपनी माता के आंसू  कण



28 comments:

  1. ओशो ने लिखा है कि मां की जीवन धारा भी एक अज्ञात, अत्यन्त अनजान विद्युत की धारा है। बच्चे की नाभि से पूरे व्यक्तित्व को पोषित करती है।
    मुंदी हुई पलके खुल जाएँ
    शौर्य-शक्ति हम में घुल जाएँ
    मन में त्याग भाव तुल जाएँ
    निज बलि दे पोंछे तत्क्षण
    जिस भाव भूमि पर आपने ये पंक्तियां लिखी हैं वह वह हमें भावों से ओत-प्रोत कर गया। भावनाओं का अन्त नहीं होता। भाव ही स्वभाव बनते हैं। इन पंक्तियों के संकाल्प का प्रभाव भावों को गहनता से जोड़ता है।

    ReplyDelete
  2. हृदयस्पर्शी पोस्ट ...... माँ को नमन

    ReplyDelete
  3. सोते प्राणों के आलय में
    विस्मृत गौरव -गान -निलय में
    प्रतिपल होते साहस-लय में
    चुभ जाएँ तीखे शर बन
    जो देखा माता के आंसू कण
    क्या कहूं? बहुत सुन्दर कविता है. उतनी ही सुन्दर भूमिका है. शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  4. मुंदी हुई पलके खुल जाएँ
    शौर्य-शक्ति हम में घुल जाएँ
    मन में त्याग भाव तुल जाएँ
    निज बलि दे पोंछे तत्क्षण
    अपनी माता के आंसू कण
    गहन भाव ...उत्कृष्ट अभिव्यक्ति ....!!आपकी रचना की श्रेणी ही अलग है .....!!कई बार पढेंगे ...!!
    एक मार्ग दर्शन देती है ...काव्य का स्तर क्या होना चाहिए ....!!
    लिखते रहें और अपने काव्य से हमें मार्ग दर्शन देते रहें ....!!
    शुभकामनायें ...!!

    ReplyDelete
  5. सच है, हम सब भी यही कहें।

    ReplyDelete
  6. पाश्चात्य देशों में भी माँ को याद तो हमेशा ही करते हैं पर व्यवस्था ऐसी है कि उसके लिए कुछ खास करने के लिए शायद एक दिन ही मिलता है :).
    वैसे आज एक दिन के लिए आपकी यह कविता मन की गहराइयों तक गई.माँ को इससे खूबसूरत तोहफा और क्या हो सकता है.
    सुन्दर, सार्थक और भावपूर्ण रचना.

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति.


    माँ के लिए ये चार लाइन
    ऊपर जिसका अंत नहीं,
    उसे आसमां कहते हैं,
    जहाँ में जिसका अंत नहीं,
    उसे माँ कहते हैं!

    आपको मातृदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. आपको भी मदर्स डे की हार्दिक शुभकामनायें ...स्वीकार करें

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर कविता है आशीष जी. शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  10. भावपूर्ण रचना......मातृदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !!!

    ReplyDelete
  11. आज के हालातों को देखते हुए लगता है कि शुक्र है ये एक दिन तो है............वरना कौन पूछता है माँ को......

    बहुत सुंदर भाव आशीष जी......

    अनंत शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  12. माँ के बारे में कुछ भी कह दिया जाय कम ही लगता है , और सच भी है अनन्त की कहाँ कोई सीमा होती है ... माँ की ममता का कोई ओर छोर नही....

    ReplyDelete
  13. .

    सच है, सब दिन माता-पिता को स्मरण करने के होते हैं ।
    माता-पिता की स्मृतियों को कभी नहीं भुलाया जा सकता …
    भावनापूर्ण रचना के लिए आभार !

    भूमिका ने अधिक प्रभावित किया …
    कविता अच्छी है कुछ ताल मेल गड़बड़ा रहा है लेकिन …

    यथा - जो देखा माता के आंसू कण
    # बहुत सारे आंसू कणों की बात है तो कहना होगा - जो देखे माता के आंसू कण
    # एक आंसू कण की बात हो रही है तो - जो देखा माता का आंसू कण
    आशा है, सकारात्मक ही लेंगे…॥
    सुंदर रचना को और सुंदर बनाया जाए , यही श्रेयस्कर है …

    मंगलकामनाओं सहित…
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  14. निज बलि दे पोंछे तत्क्षण
    अपनी माता के आंसू कण


    आमीन......!!

    ReplyDelete
  15. माँ का आशीर्वाद सब पर यूं ही बना रहे |
    सादर |

    ReplyDelete
  16. माँ सदैव पूजनीय है ... माँ अपने कष्ट छुपा कर बच्चों को आगे बढ़ने को प्रोत्साहित करती है ..... भले ही उसके अस्तित्व को नकार दिया जाये पर वो अपने बच्चे की प्रथम शिक्षिका होती है .... माँ की स्मृति में सुंदर रचना ... भाव भरी ॥

    ReplyDelete
  17. सुंदर भाव संयोजन से सुसज्जित बेहद अच्छी भावपूर्ण अभिव्यक्ति काश आज के समाज को भी यह ज़रा सी मगर अपने आपमें बेहद महत्वपूर्ण बात समझ आजाये तो कितना अच्छा हो की "बेटी नहीं बचाओ गए तो माँ कहाँ से पाऔगे।"

    ReplyDelete
  18. मां की ममता को शत-शत नमन !

    ReplyDelete
  19. सदा रहे आशीष तुम्हारा छोटी सी ये अर्जी माँ
    मुझमे मेरा जो कुछ है वो तेरा ही निमित्त है माँ

    ReplyDelete
  20. इस कविता को जितनी बार पढ़ता हूं, मन नहीं भरता।

    ReplyDelete
  21. Maa to maa hai... uski jagah to koi bhagwaan bhi nahi le sakta... kavita bahut hi khubsurat hai..

    ReplyDelete
  22. बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  23. माँ के रोम-रोम में भगवान् के बाद कोई बसा होता है तो वो उसके बच्चे होते हैं पर उसके लिए वरदान सा होता है जब बच्चे उसकी आँखों से आंसू पोछने के लिए तत्पर होते हैं..

    ReplyDelete
  24. बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  25. बेहद प्रभावी ... माँ को मेरा नमन ...

    ReplyDelete